24.3 C
Dehradun
Thursday, August 13, 2020
Home Uttarakhand रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में...

रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में लिपटा हुआ पार्थिव शरीर देखकर बिलख पड़ी बहन

उत्तराखंड: लद्दाख में शहीद हुए उत्तराखंड के लाल देव बहादुर का ग्राम गोरीकलां के निकट शमशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। शहीद के पिता शेर बहादुर ने मुखाग्नि दी। रक्षा बंधन से पहले भाई को खोने का गम बहन के चेहरे पर भी साफ झलक रहा था।


तिरंगे में लिपटे भाई के शव को देख बहन बिलख पड़ी और परिवार वालों का भी रो रोकर बुरा हाल है। परिजनों को रोता-बिलखता देख मौके पर जमा लोगों की आंखें भी नम हो गईं। बहन बार-बार चिल्ला चिल्ला कर कह रही थी कि भइया तुम खुद चल कर क्यों नही आ रहे हो। बहन गीता ने बड़े अरमानों से भाई की कलाई के लिए राखी खरीदी थी। लेकिन उसे क्या पता था कि रक्षाबंधन आने से पहले ही उसका प्यारा भाई देश के लिए बलिदान हो जाएगा। भाई की पार्थिव देह ताबूत में देखकर सुधबुध खो बैठी गीता ने होश आने पर राखी को ताबूत पर बांध दिया।

शहीद का शव लालपुर पहुंचने की सूचना घर वालों को मिली तो देव बहादुर के दोनों भाई किशन व अनुज भी वहां पहुंच गए। एंबुलेंस में भाई का शव देखकर छोटा भाई अनुज होश खो बैठा। बेसुध होकर गिरने से पहले ही दोस्तों और विधायक शुक्ला ने उसे संभाल लिया। विधायक और दोस्तों ने समझा कर उसे हिम्मत दी। शहीद देव बहादुर का शव तीन दिन बाद पहले एंबुलेंस और फिर सैन्य वाहन से उनके गांव पहुंचा। स्थानीय लोगों और नौजवान जुलूस की शक्ल में सैन्य वाहन को गांव तक ले गए। रास्ते में सड़क किनारे और घरों की छतों में खड़े होकर लोगों ने शहीद को नमन किया।

 

Most Popular

रुद्रप्रयाग: जखोली ब्लॉक प्रमुख प्रदीप थपलियाल ने आपदा प्रभावित गांवों की मद्दद के लिए आगे आये साथ ही अधिकारियों को राहत वितरण के दिए...

उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग में गदेरे (बरसाती नाले) में आज सोमवार को बादल फटने से व्यापक तबाही हो गई है। बादलों की इस आपदा में...

सिविल सेवा परीक्षा में छाए उत्तराखंड के होनहार, रामनगर के शुभम ने हासिल किया 43वां स्थान

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में उत्तराखंड के युवाओं का डंका बजा है। रामनगर निवासी शुभम बसंल ने परीक्षा में ऑल...

पहाड़ों में भी साइबर अपराधी तलाशने लगे शिकार, बचना है तो इन बातों का रखें ख्याल

साइबर अपराधी अब तक धनाढ्य वर्ग या फिर नौकरीपेशा को ही शिकार के लिए चुनते थे। मगर इंटरनेट और डिजिटल पेमेंट के प्रति बढ़ी...

रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में लिपटा हुआ पार्थिव शरीर देखकर बिलख पड़ी बहन

उत्तराखंड: लद्दाख में शहीद हुए उत्तराखंड के लाल देव बहादुर का ग्राम गोरीकलां के निकट शमशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार...

Recent Comments

Translate »