24.3 C
Dehradun
Sunday, August 9, 2020
Home Uttarakhand बिना गाइडलाइन ही घर भेज दिया मंत्री जी को और फिर...

[News Uttarakhand:] बिना गाइडलाइन ही घर भेज दिया मंत्री जी को और फिर अफरातफरी में…

उत्तराखंड में एक तरफ तो कोरोना संकमरण तेजी से फैलता चला जा रहा है वहीँ प्रशासन की गंभीर लापरवाही के मामले भी सामने आ रहे हैं, और प्रशासन की लापरवाही या कहैं डर तब और अधिक सामने आ जाता है जब मामला नेताओं से जुड़ा हुआ होता है। ऐसे ही एक ताजा मामला जहाँ एम्स में भर्ती सतपाल महाराज और उनके परिवार को लेकर सामने आ रहा है जहाँ सिर्फ 2 दिनों के अन्दर ही एम्स प्रशासन उन्हें घर जाने की इजाजत दे देता है। इस प्रकरण के सामने आने के बाद सरकार के साथ ही एम्स की भी खूब फजीहत हो रही है। तो चलिए अब आपको पूरे मामले से रूबरू करवाते हैं।

यह भी पढ़िये: उत्तराखंड में बढ़ता चला जा रहा है कोरोना संक्रमण… 29 नए मामले, 958 पहुंचा आंकड़ा

रविवार को सतपाल महाराज और उनका पूरा परिवार कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद एम्स ऋषिकेश में भर्ती किया गया था, जहाँ सभी की गहन जांच की गयी। इसके बाद सोमवार शाम को उन्हें डिस्चार्ज कर दिया गया  और कहा गया कि सभी सदस्य ए-​सिम्टमैटिक (जिनमें कोविड के लक्षण नहीं दिखाई दे रहे) हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइड लाइन के तहत ऐसे लोगों को होम क्वारंटाइन में रखा जा सकता है। लिहाजा मंत्री के परिजनों के व्यक्तिगत आग्रह पर उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया तथा होम कोरंटाइन में रहने की सलाह दी गई। मगर कुछ समय बात राज्य सरकार के स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी कि केंद्र सरकार की गाइडलाइन अभी राज्य में लागू ही नहीं होती है।

यह भी पढ़िये: अमित रावत: अपने जन्मदिन पर ही सबको छोड़कर चला गया देवभूमि का लाल

इसके बाद देर रात फिर से एम्स में पूरे परिवार को भर्ती कर लिया गया जिसे लेकर हाई वोल्टेज ड्रामा चलता रहा। एम्स जैसा देश का प्रतिष्ठित संस्थान भी इस मामले में बार-बार अपना स्टेंड बदलता नजर आ रहा है। सवाल उठ रहा है कि, कोरोना जैसी महामारी के सामान्य मरीज के साथ भी ऐसा हो सकता है कि, वह जब चाहे डिस्चार्ज हो जाए और जब चाहे दोबारा भर्ती हो जाए और क्या एम्स प्रशासन इस बात से अनभिज्ञ हो सकता है कि केंद्र सरकार की गाइडलाइन अभी राज्य में लागू ही नहीं होती है?

यह भी पढ़िये: शबास हरी भुला… बंजर भूमि में उगाई मेहनत और हौंसलों की फसल, युवाओं के लिए बने रोल मॉडल

.(tagsToTranslate)uttarakhand news(t)devbhumi news(t)uttarakhand samachar(t)samachar uttarakhand(t)latest news uttarakhand(t)उत्तराखंड न्यूज़(t)देवभूमि न्यूज़(t)लेटेस्ट न्यूज़ उत्तराखंड(t)समाचार उत्तराखंड(t)उत्तराखंड समाचार(t)corona virus uttarakhand(t)uttarakhand corona virus(t)सतपाल महाराज(t)कोरोना वायरस सतपाल महाराज(t)एम्स ऋषिकेश(t)उत्तराखंड

[Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by News Uttarakhand. Publisher: Jan Tak]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिविल सेवा परीक्षा में छाए उत्तराखंड के होनहार, रामनगर के शुभम ने हासिल किया 43वां स्थान

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में उत्तराखंड के युवाओं का डंका बजा है। रामनगर निवासी शुभम बसंल ने परीक्षा में ऑल...

पहाड़ों में भी साइबर अपराधी तलाशने लगे शिकार, बचना है तो इन बातों का रखें ख्याल

साइबर अपराधी अब तक धनाढ्य वर्ग या फिर नौकरीपेशा को ही शिकार के लिए चुनते थे। मगर इंटरनेट और डिजिटल पेमेंट के प्रति बढ़ी...

रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में लिपटा हुआ पार्थिव शरीर देखकर बिलख पड़ी बहन

उत्तराखंड: लद्दाख में शहीद हुए उत्तराखंड के लाल देव बहादुर का ग्राम गोरीकलां के निकट शमशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार...

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन पर सीएम ने की समीक्षा, आइये बताते है आपको इस विषय में :

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना पर बहुत ही तेजी से काम चल रहा है। लॉकडाउन में राहत मिलते ही इस, परियोजना के रुके हुए...

Recent Comments

Translate »