24.3 C
Dehradun
Tuesday, September 29, 2020
Home Uttarakhand महिला दिवस 2020 : खुद की जरूरतें समेटकर मधु ने रोशन...

[News Uttarakhand:] महिला दिवस 2020 : खुद की जरूरतें समेटकर मधु ने रोशन कर दी बेटे की जिंदगी

अरुण कुमा, अमर उजाला, काशीपुर (ऊधमसिंह नगर)
Updated Sun, 08 Mar 2020 11:52 AM IST

काशीपुर में बेटे रजत के साथ मधु रावत
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

खुद अंधेरे में वक्त गुजार कर मधु ने अपने बेटे की जिंदगी रोशन कर दी। पति की मौत के बाद मां के साथ एक पिता का भी फर्ज निभाते हुए उसने बेटे के सपनों को पंख लगाए। आज रजत कई धारावाहिकों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के बीच अपनी खास जगह बना चुका है।

उत्तराखंड के रुद्रपुर में दुर्गा कालोनी निवासी मधु रावत गरीब परिवार से है। वर्ष 2009 में पति धर्मवीर सिंह रावत का आकस्मिक निधन हो गया। तीन पुत्रों की परवरिश का जिम्मा मधु के कंधों पर आ गया।

उसने एक कंपनी में नौकरी कर बच्चों की बेहतर परवरिश की। मंझले बेटे रजत की ख्वाहिश अभिनय के क्षेत्र में हाथ आजमाने की थी। मां ने उसे हौसला दिया और मार्च 2019 में रजत को मुंबई भेज दिया।

शुरू में काम नहीं मिल पाने पर रजत को कई रात भूखे-प्यासे फुटपाथ पर गुजारनी पड़ी। लेकिन रजत के भीतर छिपे कलाकार ने हिम्मत नहीं हारी। छह माह बाद स्वास्तिक प्रोडक्शन में उसे काम मिला। इसके बाद वह एक के बाद एक कई धारावाहिकों में दिखने लगा। साल भर के अंतराल में स्टार भारत पर राधाकृष्ण में वृंदावन दास, महाकाली में अग्निदेव, पोरस में सैनिक, चंद्रगुप्त मौर्य में एक्टर धनंजय के सुरक्षा गार्ड के रूप में अभिनय कर चुका है।

वर्तमान में स्टार प्लस पर ये हैं चाहते में सुरक्षा गार्ड, नौकर, सिपाही, सोनी पर मेरे सांई में लठैत, कलर्स पर शक्ति में छात्र, दंगल में सावधान इंडिया में विलन, जी टीवी पर कुरबान हुआ में रजत विलेन के रूप में नजर आ रहे हैं।

‘भाभी जी घर पर हैं…’ में भी उसे नौकर का किरदार मिला है। वर्तमान में इसकी शूटिंग चल रही है। मधु कहती है कि बेटे की सफलता के लिए ईश्वर से दुआ मांगती थी। जब भी बेटे को टीवी देखती है तो वह भावुक हो जाती हूं।

खुद अंधेरे में वक्त गुजार कर मधु ने अपने बेटे की जिंदगी रोशन कर दी। पति की मौत के बाद मां के साथ एक पिता का भी फर्ज निभाते हुए उसने बेटे के सपनों को पंख लगाए। आज रजत कई धारावाहिकों में अपने दमदार अभिनय से दर्शकों के बीच अपनी खास जगह बना चुका है।

उत्तराखंड के रुद्रपुर में दुर्गा कालोनी निवासी मधु रावत गरीब परिवार से है। वर्ष 2009 में पति धर्मवीर सिंह रावत का आकस्मिक निधन हो गया। तीन पुत्रों की परवरिश का जिम्मा मधु के कंधों पर आ गया।

उसने एक कंपनी में नौकरी कर बच्चों की बेहतर परवरिश की। मंझले बेटे रजत की ख्वाहिश अभिनय के क्षेत्र में हाथ आजमाने की थी। मां ने उसे हौसला दिया और मार्च 2019 में रजत को मुंबई भेज दिया।


आगे पढ़ें

भूखे-प्यासे फुटपाथ पर गुजारी रात

.(tagsToTranslate)Women empowerment

[Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by News Uttarakhand. Publisher: Amar Ujala]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

नोएडा में फिल्म सिटी बनाने का एलान के बाद नोएडा प्राधिकरण ने उसको लेकर तैयारी भी शुरू कर दी है

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नोएडा में फिल्म सिटी बनाने का एलान के बाद नोएडा में फिल्म सिटी बनाने को लेकर शुरू...

जेल में चौंकाने वाला मामला सामने आया है.. कैदी ने मोबाइल पर बात करने के लिए ऐसी जगह छुपाया मोबाइल,अस्पताल में करना पड़ा...

राजस्थान की जोधपुर की सेंट्रल जेल में एक बहुत ही आश्चर्य करने वाला मामला सामने आया है। यहां एक कैदी ने मोबाइल छिपाने के...

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित विधायकों की संख्या बढ़ती जा रही है, BJP के 7 और कांग्रेस के 2 विधायक अब तक कोरोना से संक्रमित

विधानसभा के मॉनसून सत्र की अवधि नजदीक आते-आते कोरोना संक्रमित विधायकों की संख्या बढ़ती जा रही है। अभी तक भाजपा के ही विधायक संक्रमित...

उत्तराखंड कोरोना अपडेट: राज्य में कोरोना के रिकॉर्ड 2078 नए मामले, कुल संख्या 40000 के पार, अब तक 478 की मौत

उत्तराखंड में शनिवार को पहली बार एक ही दिन में कोरोना के दो हजार से अधिक मरीज मिले। एक ही दिन में रिकार्ड 2078...

Recent Comments

Translate »