24.3 C
Dehradun
Sunday, August 9, 2020
Home Uttarakhand शबास हरी भुला… बंजर भूमि में उगाई मेहनत और हौंसलों की...

[News Uttarakhand:] शबास हरी भुला… बंजर भूमि में उगाई मेहनत और हौंसलों की फसल, युवाओं के लिए बने रोल मॉडल

सपना वह नहीं जो हम नींद में देखते हैं, बल्कि सपना वो है जो आपको सोने नहीं देता… देश के पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम की कही गयी इन पंक्तियों को सीमांत जनपद चमोली के गैरसैंण ब्लाॅक के सिलंगा गांव निवासी हरेन्द्र शाह नें हकीकत में चरितार्थ करके दिखाया है। हरेन्द्र शाह नें बीएससी (पीसीएम) की डिग्री देहरादून के डीएवी कालेज से पूरी की। डिग्री प्राप्त करने के बाद हरेन्द्र के पास अपने सुनहरे भविष्य के लिए बहुत सारे विकल्प थे। वो चाहता तो अच्छी खासी नौकरी के लिए प्रयास करता लेकिन हरेन्द्र का सपना था अपने पहाड़ में रहकर ही कुछ बडा करना है और लोगो के लिए एक उदाहरण भी प्रस्तुत करना है। हरेन्द्र का सपना था कि वह अपने पहाड़ की बंजर खेती को उपजाऊ बनाए और पहाड़ में ही रोजगार के अवसरों का सृजन करके दूसरे युवाओं को भी रोजगार मुहैया करवाये। खुली आंखों से देखा हरेन्द्र का यह सपना अब धरातल में हकीकत पूरा हो चुका है। हरेन्द्र नें बंजर खेतों को इस कदर उपजाऊ बनाया कि आज ये खेत सोना उगल रहा है।

यह भी पढ़ें: धन्य है ऐसी प्रधानी। प्रवासी भाई-बहनों के लिए उठाया ऐसा कदम चारों ओर हो रही है वाह वाही…

अपने गांव सिलंगा में खिल नामक स्थान पर बंजर पडी 10 नाली भूमि पर हरेन्द्र नें दो पाॅली हाउस लगाये और बंजर भूमि को उपजाऊ योग्य बनाने में दिन रात एक कर दिया। इसमें हरेन्द्र के परिवार नें भरपूर साथ दिया। हरेन्द्र के परिवार में उनके मां-पिताजी के अलावा तीन बहिनें हैं जिनमें से एक की शादी हो चुकी है। आखिरकार हरेन्द्र की जिद और मेहनत रंग लाई फलतः आज बंजर भूमि में सोना उग रहा है। बीते एक साल के दौरान हरेन्द्र नें लगभग हर प्रकार की सब्जी का उत्पादन किया। मटर, गोबी, शिमला मिर्च, टमाटर, प्याज, मूली, ककडी, खीरा, बैंगन, फ्रासबीन से लेकर हर वो सब्जी उगाई जो आपको सब्जी मंडी में दिखाई देती है।

यह भी पढ़िये: रुद्रप्रयाग में कलयुगी बेटे: पहले माँ का हाथ तोड़ा, सर फोड़ा और जान से मारने की कोशिश की

हरेन्द्र बताते हैं कि शुरू-शुरू में तो उन्हें बहुत कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। लोगों नें हतोत्साहित भी किया परंतु परिवार और दोस्तों के सहयोग से ही अपने सपने को सच कर पा रहा हूँ। हरेन्द्र कहते हैं कि मैं सुबह पांच बजे उठ जाता हूं और शाम के ७ बजे तक अपने फार्म में काम करता हूँ। बीते एक साल पहले उन्होंने अपने इस पूरे मिशन को साकार करने में तीन लाख रूपये लगाये। कहते है कि अब जब पीछे मुडकर देखता हूं तो बहुत सुकून मिलता है। आज ये फार्म मुझे अच्छी खासी आमदनी दे रहा है। चार युवाओं को भी रोजगार दिया है और उनका पूरा परिवार भी इससे जुड़ा हुआ है। बताते है कि उन्होंने पूरी तरह जैविक खेती पर जोर दिया है। इसलिए इनकी बहुत मांग है। पूरी सब्जी की खफत मेहलचैरी बाजार में ही हो जाती है। जबकि मांग बहुत है। अब धीरे-धीरे इसको बडे स्तर पर ले जाने का सपना है।

यह भी पढ़ें: उत्तराखण्ड: नाबालिक लड़की को प्रेम जाल में फंसा कर किया शारीरिक शोषण, 7 माह के मृत बच्चे को दिया जन्म

सब्जी उत्पादन के साथ साथ डेरी, कुकुट, मत्स्य, मशरूम, कीवी उत्पादन के जरिए मल्टी व्यवसाय को प्राथमिकता देने का प्रयास किया जा रहा है। ताकि लोगों को हर चीज मिल जाये और युवाओं को रोजगार के अवसर। उन्होंने युवाओं से अपील करते हुए कहा कि पहाड़ में रहकर भी बहुत कुछ किया जा सकता है। बस सकारात्मक दिशा में सोचने की आवश्यकता है। साथ ही सरकार को भी युवाओं को प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है। कोरोना वाइरस के वैश्विक संकट में रोजगार के अवसर सीमित हो गयें हैं ऐसे में युवाओं को इस अवसर को भुना करके अपनी माटी पर भरोसा करना चाहिए। यही माटी बहुत कुछ दे सकती है। सबको आगे आना होगा।

यह भी पढें: उत्तराखण्ड: कोरोना के डर से नवविवाहित पति पत्नी ने जंगल में लगाई फांसी, ग्राम प्रधान को किया Whatsapp

.(tagsToTranslate)harendra from chamoli(t)role models for youth(t)उत्तराखंड

[Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by News Uttarakhand. Publisher: Jan Tak]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिविल सेवा परीक्षा में छाए उत्तराखंड के होनहार, रामनगर के शुभम ने हासिल किया 43वां स्थान

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में उत्तराखंड के युवाओं का डंका बजा है। रामनगर निवासी शुभम बसंल ने परीक्षा में ऑल...

पहाड़ों में भी साइबर अपराधी तलाशने लगे शिकार, बचना है तो इन बातों का रखें ख्याल

साइबर अपराधी अब तक धनाढ्य वर्ग या फिर नौकरीपेशा को ही शिकार के लिए चुनते थे। मगर इंटरनेट और डिजिटल पेमेंट के प्रति बढ़ी...

रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में लिपटा हुआ पार्थिव शरीर देखकर बिलख पड़ी बहन

उत्तराखंड: लद्दाख में शहीद हुए उत्तराखंड के लाल देव बहादुर का ग्राम गोरीकलां के निकट शमशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार...

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन पर सीएम ने की समीक्षा, आइये बताते है आपको इस विषय में :

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना पर बहुत ही तेजी से काम चल रहा है। लॉकडाउन में राहत मिलते ही इस, परियोजना के रुके हुए...

Recent Comments

Translate »