24.3 C
Dehradun
Sunday, August 9, 2020
Home National News Uttarakhand: UN की रिपोर्ट में खुलासा, अफगानिस्तान में आतंकी सप्लाई करते...

News Uttarakhand: UN की रिपोर्ट में खुलासा, अफगानिस्तान में आतंकी सप्लाई करते हैं जैश और लश्कर – Pak based terror outfits jem let trafficking fighters into afghanistan un report

  • आईईडी बनाने की ट्रेनिंग देते हैं पाकिस्तानी आतंकी
  • अफगान-तालिबान शांति प्रक्रिया बिगाड़ने की कोशिश

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट बताती है कि अफगानिस्तान में शांति प्रक्रिया को बेपटरी करने के लिए पाकिस्तान आधारित आतंकी संगठन जैश-ए मोहम्मद (जैश या जेईएम) और लश्कर-ए तैयबा (एलईटी) पूरी तैयारी से जुटे हैं. रिपोर्ट के मुताबिक, ये दोनों आतंकी संगठन पाकिस्तान से आतंकियों को अफगानिस्तान भेजते हैं जो वहां जाकर लोगों को आईईडी डिवाइस (विस्फोटक) बनाने की ट्रेनिंग देते हैं.

जैश और एलईटी भारत में भी आतंक फैलाने के गुनहगार हैं. 2008 में मुंबई हमला और 2019 में पुलवामा हमले की साजिश इन्हीं आतंकी संगठनों ने रची थी. और भी कई आतंकी हमले हैं जिनके इल्जाम इन दोनों संगठनों पर लगे हैं. संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद में जारी आतंकवाद से जुड़ी एक रिपोर्ट बताती है कि अफगान अधिकारियों ने इसे स्पष्ट किया है कि अफगानिस्तान में कई संगठनों की गतिविधि ऐसी है जो सुरक्षा के लिए गंभीर खतरा हैं.

ये भी पढ़ें: कैसे PAK ने फर्जी तालिबान को किया प्रमोट? भारत के खिलाफ जिहाद की धमकी को फैलाया

रिपोर्ट में कहा गया है कि अफगानिस्तान और तालिबान किसी सीजफायर पर सहमत हों और शांति व सुरक्षा की बात आगे बढ़े लेकिन इस राह में ऐसे संगठन (आतंकी) बहुत बड़ी अड़चन हैं. शांति प्रक्रिया में जो संगठन बाधा पहुंचा रहे हैं, उनमें तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान, जैश और एलईटी के नाम हैं. इन आतंकी संगठनों की मौजूदगी कुनार, नांगरहर और नूरिस्तान के इलाकों में ज्यादा है. इन इलाकों में ये संगठन अफगान तालिबान के बैनर तले आतंकी वारदातों को अंजाम देते हैं.

आतंकवाद से जुड़ी यह रिपोर्ट बताती है कि जैश और एलईटी अफगानिस्तान में आतंकियों की सप्लाई कराते हैं. ये आतंकी सलाहकार, प्रशिक्षक या विशेषज्ञ के तौर पर काम करते हैं और इस काम में लगे लोगों को आईईडी डिवाइस बनाने की ट्रेनिंग देते हैं. दोनों संगठनों पर कई सरकारी अधिकारियों की हत्या का इल्जाम है. रिपोर्ट में कहा गया है कि एलईटी और जैश में क्रमश: 800 और 200 हथियारबंद लड़ाके हैं. ये लड़ाके तालिबानी आतंकियों के साथ नांगरहर प्रांत में मोहमंद दारा, दुर बाबा और शेरजाद जिले में हिंसक वारदातों को अंजाम देते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें

  • Aajtak Android App
  • Aajtak Android IOS



[Disclaimer: This story is auto-aggregated by a computer program and has not been created or edited by News Uttarakhand. Publisher: Aaj Tak]

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सिविल सेवा परीक्षा में छाए उत्तराखंड के होनहार, रामनगर के शुभम ने हासिल किया 43वां स्थान

संघ लोक सेवा आयोग की सिविल सेवा परीक्षा में उत्तराखंड के युवाओं का डंका बजा है। रामनगर निवासी शुभम बसंल ने परीक्षा में ऑल...

पहाड़ों में भी साइबर अपराधी तलाशने लगे शिकार, बचना है तो इन बातों का रखें ख्याल

साइबर अपराधी अब तक धनाढ्य वर्ग या फिर नौकरीपेशा को ही शिकार के लिए चुनते थे। मगर इंटरनेट और डिजिटल पेमेंट के प्रति बढ़ी...

रक्षाबंधन से पहले लद्दाख बॉर्डर पर शहीद हुए भाई को तिरंगे में लिपटा हुआ पार्थिव शरीर देखकर बिलख पड़ी बहन

उत्तराखंड: लद्दाख में शहीद हुए उत्तराखंड के लाल देव बहादुर का ग्राम गोरीकलां के निकट शमशान घाट पर राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार...

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन पर सीएम ने की समीक्षा, आइये बताते है आपको इस विषय में :

ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेल लाइन परियोजना पर बहुत ही तेजी से काम चल रहा है। लॉकडाउन में राहत मिलते ही इस, परियोजना के रुके हुए...

Recent Comments

Translate »